toshi

apne vajood ki talash me.........
Related Posts with Thumbnails

शुक्रवार, 26 फ़रवरी 2010

होली की शुभकामनाये....

रंगों का त्यौहार है होली........
न जाने कितने रंग समाये है होली के इन रंगों में....
पर मेने सुना है सबसे खुबसूरत रंग तो प्यार का होता है.........
अपनेपन और विश्वास का होता है..........
सच्चाई और इमानदारी का होता है........
क्यों न खो जाये होली के संग..........
जीवन के इन पक्के रंगों में........
बांध ले अपनों को एक अटूट बंधन में..........
और लगाए किसी ऐसे के मस्तक  पर  तिलक...
जिनके बेरंग जीवन में नहीं है किसी अपने का रंग...
देकर उनको ये अनमोल तोहफा...
देखे तो सही अपने जीवन में रंगों का मज़ा...


19 टिप्पणियाँ:

Amitraghat 26 फ़रवरी 2010 को 10:37 pm  

"सुन्दर भावाभिव्यक्ति......"
प्रणव सक्सैना amitraghat.blogspot.com

Udan Tashtari 26 फ़रवरी 2010 को 11:06 pm  

होली मुबारक हो..बढ़िया रचना!

हृदय पुष्प 26 फ़रवरी 2010 को 11:17 pm  

शब्द और भावों का अच्छा संयोजन - होली "मंगल-मिलन" की हार्दिक शुभकामनाएं

अजय यादव 26 फ़रवरी 2010 को 11:39 pm  

हालचाल

जब भी कोई कहता है
'सुनो आदमी'
समझ में आता है
कि अपने भीतर के
जंगल और जानवर को मारो,
जब भी कोई कहता है
'बनो आदमी'
समझ में आता है
कि मेरे भीतर
कितना बचा है
जंगल और जानवर?
लेकिन
एक फर्क है
आदमी और जानवर में
जानवर,
भविष्य की योजनाएं तो बनाता है
लेकिन नहीं रख सकता यादों में
किसी को सहेजकर
और मैं,
उल्टे पांव चलती इस दुनियां में
जो मुझे अच्छा लगा
उसे भूलना नहीं चाहता......
बताइएं,
कैसी हैं आप?


होली पर आपको ढेर सारी खुशियां!!!!!!!
वैसे तोषी का मतलब क्या होता है?

अजय यादव 26 फ़रवरी 2010 को 11:45 pm  

http://www.kathphodwa.blogspot.com
पर अपनी राय जरूर दीजिए!!!!!

RaniVishal 27 फ़रवरी 2010 को 2:35 am  

Aapane bilkul thik hi suna hai aur ham bhi aisa hi manate hai ki pyar ke rang se pyara ko irang nahi...!!
to aaiye isi rang me ek duje to range....holi ki dher sari shubhkaamnae!

M VERMA 27 फ़रवरी 2010 को 6:09 am  

पर मेने सुना है सबसे खुबसूरत रंग तो प्यार का होता है.........
सही सुना है
यह रंग कहीं खोने लगा है

निर्मला कपिला 27 फ़रवरी 2010 को 11:47 am  

बहुत अच्छी लगी रचना ।"आपको भी होली की शुभकामनाएँ

रवीन्द्र प्रभात 27 फ़रवरी 2010 को 12:49 pm  

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।।

ravi k.gurbaxani 27 फ़रवरी 2010 को 1:35 pm  

bhva-bhini abhivkti hai...darasal poem jivan ke liye satsang ke bad milne wale pavitra amrit ke saman hai..jo jivan rupi sharir ko anandit aur alhadit kar deti hai...bahd sundar bavavyakti ke liye badhai.....

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari 28 फ़रवरी 2010 को 11:34 pm  

आपको होली की हार्दिक शुभकामनाये.

Kamaltanu 1 मार्च 2010 को 6:07 am  

main tumhari bhavnaon se puri tarah sehmat hoon dost,
Holi ke is Paawan_Parv per Humari bhi Dher sari Shubhkaamnayen

Sanjeet Tripathi 1 मार्च 2010 को 5:36 pm  

होली की बधाई व शुभकामनाएं आपको भी।

arvind 2 मार्च 2010 को 11:48 am  

सबसे खुबसूरत रंग तो प्यार का होता है.........
अपनेपन और विश्वास का होता है..........
सुन्दर भावाभिव्यक्ति......".
krantidut.blogspot.com

Tarkeshwar Giri 2 मार्च 2010 को 4:04 pm  

Bhai Wah!, Sachmuch pyar jaisa koi rang nahi hai.
AAp ko aur apke pure Parivar ko Holi mubarak ho.

हरकीरत ' हीर' 2 मार्च 2010 को 4:17 pm  

बांध ले अपनों को एक अटूट बंधन में..........
और लगाए किसी ऐसे के मस्तक पर तिलक...
जिनके बेरंग जीवन में नहीं है किसी अपने का रंग...
देकर उनको ये अनमोल तोहफा...
देखे तो सही अपने जीवन में रंगों का मज़ा...

बहुत खूब.....!!

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP